Hindi Status, Short Hindi Quotes

Hindi Status for Whatsapp, New Hindi Status 2017, Best Hindi Status, Funny Hindi Status, Latest Hindi Status, New Hindi Quotes 2017, Latest Hindi Quotes, Best Hindi Quotes FB.
Hindi Status Quotes Short Messages for Whatsapp Facebook

Hindi Attitude Status | Hindi Sad Status | Hindi Love Status

गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

धोखा देती है अक्सर मासूम चेहरे की चमक.. क्योंकि हर पत्थर हीरा नहीं होता।

लोग ढूँढेंगे हमें भी, हाँ मगर सदियों के बाद।

अजीब खेल है इस मोहब्बत का, किसी को हम न मिले और न कोई हमे मिला।

वो अपनी मर्जी से बात करते हैँ और हम कितने पागल हैँ जो उनकी मर्जी का इंतजार करते हैं।

सुना है आज उनकी आँखों आँशु आ गए। वो बच्चों को लिखना सिखा रही थी.. कि मोहब्बत ऐसे लिखते है।

अजीब रंगो में गुजरी है मेरी जिंदगी। दिलों पर राज़ किया पर मोहब्बत को तरस गए।

उन्होंने वक़्त समझकर गुज़ार दिया हमको.. और हम.. उनको ज़िन्दगी समझकर आज भी जी रहे हैं।

Mere saamne kar diye meri tasveer k Tukde-Tukde.. Pata chala mere peechhe wo unhe jod kar bahut Roye.

Ae Neend Aaja Ke Ab Koi Nahi Hai Paas Mere.! Ke Jis Ke Liye Tujhe Chora Tha Woh To Kab Kii So Gaye

Aye Dil! Qasam Se Koi Nahi, Koi Nahi, Koi Nahi, Yaqeen maano Darwaza Faqat Hawa Se Khula

Kismat Buri Ya Main Bura Yahi Faisla Na Ho Saka Main Har Kisi Ka ho gaya Bas Koi Mera Na Ho Saka.

Meri Hesiat ka Andaza Tum Ye Jan Ker Laga Lo Ge Hum Un Ke Kabhi Nahi Hote, Jo Her Kisi Ke Ho Jaye

Wo mera tha, na mera hai, kabhi hoga nahi.. Dimag hai ye kehta.. Dil maanta nahi.

Teri muskurahat, tere kah-kahe kisi aor ke the, Jo teri ankho se tha tapka, wo main tha.

Ab dekhiye to, kis ki jaan jaati hai, Maine us ki, us ne meri qasam khayi hai!

Aye zindgi tu sach me bhot khubsurat hai Phir bhi uske bina tu achhi nahi lagti.

Woh Kab Ka BhooL Chuka Ho Ga Hamari WaFa Ka Qissa..!!! Bichar Kar,Kisi Se, Kisi Ko, Kisi Ka, Khayal Kab Rehta Hai.

Kabhi Soft Kabhi Rude.. Inna KIller mera Attitude.

कभी टूटा नहीं दिल से तेरी याद का रिश्ता, गुफ्तगू हो न हो ख्याल तेरा ही रहता है।

बात इतनी सी थी, कि तुम अच्छे लगते थे. अब बात इतनी बढ़ गई,कि तुम बिन कुछ अच्छा नहीं लगता।

बख्त कुछ थमा थमा सा है शायद कोई तूफान आने को हे।

तुम अच्छे हो तो बन के दिखाओ, हम बुरे है तो साबित करो।

काश !! OLX पे उदासी और अकेलापन भी बेचा जा सकता।

हम नवाब इस लिए है क्यों की हम लोगो पे नहीं लोगो के दिलो पे राज करते है।

भूख रिश्तों को भी लगती है.. प्यार परोस कर तो देखिये।

@ हिंदुस्तान में जब लड़कियों के पास कुछ करने के नहीं होता तो वो अक्सर अपना मूड खराब कर लेती है।

@ पगली तू हमारी बराबरी क्या करेगी हम तो माचीस भी Snepdeal से मंगवाते है।

चुपचाप चल रहे थे.. हम अपनी मंजिल की तरफ.. फिर रस्ते में एक ठेका पड़ा.. और हम गुमराह हो गए।

ऐ जीन्दगी जा ढुंड॒ कोई खो गया है मुझ से. अगर वो ना मिला तो सुन तेरी भी जरुरत नही मुझे।

कुछ दूर हमारे साथ चलो, हम दिल की कहानी कह देंगे, समझे ना जिसे तुम आखो से, वो बात जुबानी कह देंगे।

कितनी ही खूबसूरत क्यों न हो तुम.. पर मैं जानता हूँ.. असली निखार मेरी तारीफ से ही आता है।

होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं.. किसी को कहकर, अपना बनाया नही जाता।

नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को, निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है।

ज़िन्दगी जोकर सी निकली ... कोई अपना भी नहीं.. कोई पराया भी नहीं।

मेरी आँखों में बहने वाला ये आवारा सा आसूँ पूछ रहा है.. पलकों से तेरी बेवफाई की वजह।

दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर, जब मासूमियत से वो कहती है मैंने क्या किया है।

अगर तुम्हें यकीं नहीं, तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास, अगर तुम्हें यकीं है, तो मुझे कुछ कहने की जरूरत नही !

मेरी हर बात को उल्टा वो समझ लेते हैं, अब के पूछा तो कह दूंगा कि हाल अच्छा है।

खामोशियाँ में शोर को सुना है मैंने, ये ग़ज़ल गुंगुनायेगी रात के साये में।

मिला क्या हमें सारी उम्र मोहब्बत करके, बस एक शायरी का हुनर, एक रातों का जागना।

ना पीछे मुड़ के देखो, ना आवाज़ दो मुझको, बड़ी मुश्किल से सीखा है मैंने अलविदा कहना।

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से तेरी यादों का रिश्ता.. गुफ़्तगू किसी से भी हो ख़याल तेरा ही रहता है।

ना छेड़ किस्सा वोह उल्फत का बड़ी लम्बी कहानी है मैं जिन्दगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है।

हर किसी के हाथ मैं बिक जाने को हम तैयार नहीं.. यह मेरा दिल है तेरे शहर का अख़बार नहीं।

आज भी एक सवाल छिपा है.. दिल के किसी कोने मैं.. की क्या कमी रह गईथी तेरा होने में।

मेरी लिखी किताब, मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगे इसे पढा करो, मोहब्बत करना सिख जाओगे।

इतनी चाहत तो लाखो रुपए पाने की भी नही होती.. जितनी बचपन की तस्वीर देख कर बचपन में जाने की होती हैं।

@ साला किस्मत भी ऐसी है, की जिस दिन मेरा सिक्का चलेगा न, ठीक उसी दिन सरकार सिक्कों पे रोक लगा देगी।

@ जितनी बार उसकी प्रोफाईल देखता हुं. यदि उतनी बार किताब खोल के देखता तो..कसम से यारो IAS का पेपर क्लीयर कर देता।

दिल मेरा भी कम खूबसूरत तो न था.. मगर मरने वाले हर बार सूरत पे ही मरे।

मेरी आवाज़ ही परदा है मेरे चेहरे का, मैं हूँ ख़ामोश जहाँ मुझको वहाँ से सुनिए।

उसने हर नशा सामने लाकर रख दिया और कहा.. सबसे बुरी लत कौनसी हैं, मैने कहा.. तेरे प्यार की।

क्या ऐसा नहीँ हो सकता की हम प्यार मांगे, और तुम गले लगा के कहो... और कुछ।

वजह नफरतों कि तलाशी जाती है, मोहब्बत तो बेवजह ही हो जाती है।

फ्रेंड की प्रोफ़ाइल पिक्चर, लाइक करना आदत है हमारी... क्योंकी हर फ्रेंड के सूरत मे छिपी है खुशी हमारी।

आजकल देखभाल कर हौते हैं प्यार के सौदे... वो दौर और थे जब प्यार अन्धा होता था।

छोङो ना यार, क्या रखा है सुनने और सुनाने मेँ किसी ने कसर नहीँ छोङी दिल दुखाने मेँ।

यूँ ही जरा खामोश जो रहने लगे हैं हम। लोगों ने कैसे कैसे फसाने बना लिये।।

ज़िंदगी की दौड़ मे कच्चा रह गया.. नही सीखा फ़रेब बच्चा रह गया।

खुदा सवाल करेगा अगर क़यामत में, तो हम भी कह देंगे लुट गए हम शराफत में।

बस ख़ामोशी जला देती है इस दिल को.. बाकि तो सब बाते अच्छी है तेरी तस्वीर में।

ज़रूरी तो नहीं के शायरी वो ही करे जो इश्क में हो, ज़िन्दगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दिया करती है।

कुछ अलग सा है अपनी मौहबत का हाल... तेरी चुपी और मेरा सवाल।

सब को मुहब्बत के ग़म नहीं मिलते टूटने वाले दिल होते हैं ख़ास।

ज़मीं पर रह कर आसमां को छूने की फितरत है मेरी, पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।

कैसे चलूँ तेरे एहसास के बिना दो कदम भी मैं, लड़खड़ाती जिदंगी की आखरी बैसाखी हो तुम।

मेरी कोशीश हमेशा ही नाकाम रही पहले तूझे पाने की और अब तुझे भुलाने की।

मुजे कोइ ऐसी जगह ले चलो जहा रहु सिर्फ मे और मेरी तन्हाई।

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं।

साथी तो मुझे अपने सुख के लिए चाहिए दुखों के लिए तो मैं अकेला काफी हूँ।

इतने कहाँ मशरूफ हो गए हो तुम, आजकल दिल दुखाने भी नहीं आते।

यू पलटा मेरी किस्मत का सितारा मेरे दोस्तो उसने भी छोड़ दिया और अपनों ने भी।

वाकिफ़ है वो मेरी कमज़ोरी से...! वो रो देती है, और मैं हार जाता हूँ।

मैने सिखी नही कोई शायरी महफिलों मे जाकर ! हालात अक्सर दर्द सहना सिखा देते है।

मुश्किल होता है जवाब देना. जब कोई खामोश रह करभी सवाल कर लेता है!

Jab bhi main mujh ko dekhu... Mujh main bhi main Tujh sa lagu :')

Bahut gurur tha sbko apni daulat pe.. zara sa zameen kya hili sb aukat me aa gye..

दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते।

जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे, कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे।

दिन ऐसे गुजारो की रात को चैन से सो सको.. और रात ऐसी गुजारो की सुबह खुद से नजरे मिला सको।

देखना.. एक दिन बदल जाऊगा पूरी तरह मैं तुम्हारे लिए न सही.. लेकिन... तुम्हारी वजह से ही सही।

देखकर तुमको अकसर हमें एहसास होता है कभी कभी ग़म देने वाला भी कितना ख़ास होता है।

दुनिया को इतना सीरियस लेने की जरुरत नहीं, यहाँ से कोई जिन्दा बच के नहीं जाएगा।

दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते।

नाम और बदनाम में क्या फर्क है ? नाम खुद कमाना पड़ता है,और बदनामी लोग आपको कमा के देते हैं।

सोने के जेवर ओर हमारे तेवर लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे।

ढूंढ़ रहा हु लेकिन नाकाम हु अभी तक, वो लम्हा जिस में तुम याद ना आये।

तरक्की की फसल, हम भी 'काट' लेते... थोड़े से तलवे, अगर 'हम' भी चाट लेते।

तेरी मोहब्बत पर मेरा हक़ तो नही मगर.. जी चाहता है क़ि आखिरी सांस तक तेरा इन्तजार करू।

तेरे ही नाम से ज़ाना जाता हूं मैं, ना जाने ये शोहरत है या बदनामी।

तुम वादा करो आखरी दीदार करने आओगे, हम मौत को भी इंतजार करवाएँगे तेरी ख़ातिर।

बात इतनी सी थी कि तुम अच्छे लगते थे, अब बात इतनी बढ़ गई है कि तुम बिन कुछ अच्छा नहीं लगता।

बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म..!अब जिसतरह की दुनियां, उस तरह के हम।

मंदिर भी क्या गज़ब की जगह है! गरीब बाहर भीख मांगते हैं, और अमीर अन्दर।

मालुम था कुछ नही होगा हासिल लेकिन... वो इश्क ही क्या जिसमें खुद को ना गवायाँ जाए।

मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना।

मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया... शहर के लोगों ने बारीश का मजा ले लिया।

मूंगफली में छिलके और छोरी में नखरे ना होते तो जिंदगी कितनी आसान हो जाती।

में उन ही चीज़ों का शोख़ रखता हु जो मुझे मिलती हे । उन चिंजो का नहीं जिनकी इजाजत मेरे माँ बाप नहीं देते।

मेरा वक्त बदला है... रूतबा नहीं तेरी किस्मत बदली है... औकात नहीं।

मेरे मरने के बाद मेरी कहानी लिखना, कैसे बर्बाद हुई मेरी जवानी लिखना।

मुझे जॉब करने का कोई सोख नहीं है ये तो मम्मी-पापा की जींद है की तेरे लिए छोरी कहा से धुंध के लाएंगे।

रुलाने मे अक्सर उन्हीँ लोगो का हाथ होता है जो हमेशा कहते है कि तुम हँसते हुए अच्छे लगते हो।

वो तो खिलोने वाले की मजबूरी है वरना बच्चो को रोते हुए देखना उसे भी अच्छा नही लगता।

वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है.. जिस पर उसने मज़ाक़ में लिखा था ..मुझे तुमसे मोहब्बत है।

शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है, जंगल मे चुनाव नही होते.

अब मैं कोई भी बहाना नहीं सुनने वाला .. तुम मेरा प्यार.... मुझे प्यार से वापस कर दो.

अब किसी और से मोहब्बत कर लूं, तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है...!

अर्ज़ किया है.. ज़िन्दगी में अगर ग़म न होते.. तो शायरों की गिनती में हम न होते.

अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। मेरी नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो।

अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है ॥

आज टूटा एक तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था। चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था।।

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर, शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

इतनी कामीयाबि हाँसिल करूंगा की तु जे माफी मांगने के लिये भी लाईन मेँखडा होना पडेगा.

करेगा जमाना कदर हमारी भी एक दिन देख लेना... बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छुट जाने दो.

क़दर किरदार की होती है वरना कद में तो साया भी इंसान से बड़ होता है..

कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर... क्या खबर थी की चोट एक फूल से लग जायेगी.

काश तुम मेरी मौत होते तो, एक दिन जरुर मेरे होते.

क्या किसी से शिकायत करें जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है।

क्यों गुरूर करते हो अपने ठाठ पर... मुट्ठी भी खाली रहेगी जब पहुंचोगे घाट पर..

इस दुनिया मे कोई किसी का हमदर्द नहीं होता ... लोग ज़नाजे के साथ भी होते हैं तो सिर्फ अपनी हाजिरी गिनवाने के लिए.

बताँऊ तुम्हें एक निशानी उदास लोगों की..... कभी गौर करना यें हसंते बहुत हैं

हर शाम सुहानी नहीं होती, हर चाहत के पीछे कहानी नहीं होती, कुछ तो असर ज़रूर होगा मोहब्बत में, वर्ना गोरी लड़की काले औज़ार की दीवानी नहीं होती।

तुम आस पास ना आया करो जब मैं शराब पीता हूँ...क्या है कि मुझसे दुगना नशा सभांला नहीं जाता.

पलट के देख ज़ालिम, तमन्ना हम भी रखते हैं, हुस्न तुम रखती हो, तो जवानी हम भी रखते हैं; गहराई तुम रखती हो तो लंबाई हम भी रखते हैं!

इश्क की पतंगे उडाना छोड़ दी ..... वरना हर हसीनाओं की छत पर हमारे ही धागे होते.

मैंने भी बदल दिये ज़िन्दगी के उसूल, अब जो याद करेगा... सिर्फ वो ही याद रहेगा...!!

मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया...

पहले हमें भी मोहबत का नशा था यारो पर जब से दिल टूटा है नशे से मोहबत हो गई है

Pal pal tarse the ish pal ke liye vo pal bi aya, kuch pal ke liye shocha ishe rok le har pal ke liye par vo ruka hi nhi ek pal ke liye...

छोटी-छोटी बातें करके बड़े कहाँ हो जाओगे... पतली गलियों से निकलो तो खुली सड़क पर आओगे...

ईरादे सब मेरे साफ होते है, इसीलिए लोग अक्सर मेरे खिलाफ होते हेँ !

मैँ कभी बुरा नही था उसने मुझे बुरा कह दिया...फिर मैँ बुरा बन गया ताकि उन्हे कोई झुठा ना कह दे...

नींद तो आने को थी मगर दिल पिछले किस्से ले बैठा.... अब खुद को बेवक्त सुलाने मे कुछ तो वक्त लगेगा..

कौन देता है उम्र भर का सहारा, लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं!

उस घडी मेरा इश्क हदें भूल जाता था, जब लडते लडते वो कहती थी लेकिन प्यार मैं ज्यादा करती हू तुमसे..

चल कोई बात नही जो तु मेरे साथ नही लेकिन यह बंदा तेरे लिये रोये ऐसी तेरी ओकात नही।

मै शायर नही बस दिल के अहसासो को शब्दो का रूप दे देता हूँ.. जहाँ दिख गये हसीन चेहरे थोडी बहुत आवारगी कर लेता हूँ...

जिस शहर में तुम्हे मकान कम और शमशान ज्यादा मिले... समझ लेना वहा किसी ने हम से आँख मिलाने की गलती की थी....!!

आज फिर तन्हा रात में इंतज़ार है उस शख्स का, जो कहा करता था तुमसे बात न करूँ तो नींद नहीं आती

हजारो दुआओ में मांग कर भी वो मेरी न हो सकी, एक खुशनसीब ने बिना मांगे उसे अपना बना लिया ।।

मैं इस काबिल तो नही कि कोई अपना समझे.... पर इतना यकीन है... कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद.!!

जिस मोहब्बत में दीवानगी ना हो, वोह मोहब्बत ही नही.

मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया...

ना कर शक मेरी मोहब्बत पर ऐ पगली... अगर सबूत देने पर आया तो तू बदनाम हो जायेगी...

मुजे उस बात की फिक्र नहीं, जीस में मेरा जीक्र नहीं!

मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना.. नाराज वो होते हैं जिन को अपने आप पे गुरूर होता है.....!!

मुझे आदत नहीं कहीं बहुत देर तक ठहरने की.. लेकिन जब से तुम मिले हो ये दिल कही और ठहरता नही...

उसने सिर्फ एक बार मुझसे कहा था... तुम प्यार सिर्फ मुझी से करना .... उसके बाद... मैने प्यार की नज़र से खुद को भी नहीं देखा..

1st Page   ◄ 1  2  3 ►   Last page
Status